Menu

Use Behavioural Astrology

Blog posts June 2013

Scientists Are Not Scientific Towards Astrology !

Go Back

Use of Astrology in Management Education -3

 The Missing Mathematics of GITA - II

 After getting assurance from audience , I started .....

  " As you are showing extra ordinary interest, I would also like to tell you how I found that missing link. Surprisingly, the clue for the missing link lies in the Gita itself. I got that idea when somebody once asked me why a person would work if he should not think of the remuneration ( Phal) and leave it to God , as Gita says do karma and leave the result to the God.

 And his comment made me think for days. It is very natural for a human being to expect the result of the action immediately. So, when somebody kills a person , everybody expects killing the killer immediately. A worker cannot be simply wished away after he completes the work and he will ask for his wages payment.

 Suddenly it appeared to me perhaps Gita has been misquoted in modern times. Then , I again read entire Gita and I found that modern preachers , film songs and bhajan writers have over simplified the original doctrine of Gita and very few people read and understand the original text.

 Gita never says that do your action and leave the result to the God , rather it says that between any action and its result , there must always be a time delay. So, Gita says don't expect instantaneous results every time. Further , it says, that though the result of the action would always be proportionate , but because of time lag , at the time of delivery of result , it may not appear to be proportionate for various factors. This may confuse people.

 For example , a person committed a murder and was immediately arrested and put in jail. The court proceedings may take some years. In the mean time, he becomes a good person in jail premises. Everybody likes him . But after 2 years, one morning court awards him death penalty. Now , a person who is not aware of his previous misdeed of murder may find a dichotomy in his present situation and death penalty.

 This is a very simple and crude example of time lag between an action and its result. Every human being indulges in various actions every moment and the results of these actions are always following in a sequential manner like in a conveyer belt. We see that in an accident , some persons unexpectedly survive , some do not. That is because for most persons bad action results in an accidental loss but for few people , simultaneous arrival of good results of previous action results in their survival .

 Because of complex nature of delivery of results at various moments and in mixed quantities, Gita advises the common man, not to worry and waste time in understanding this complex system , but have faith in the delivery system and keep working in the best possible positive way.

 To explain it , I always give an example from salaried class people. They never get the gross salary , their PF and other things are deducted and PF etc is paid after decades. Now , if everybody starts asking what happens to that PF, how it is managed etc. then it would be very difficult for government to run a PF scheme. The PF system runs because we have faith in the system.

 Once , when I was giving this example , a person remarked that in PF system also , people are given a time frame and the expected amount and there are some guidelines also. Then only people get convinced about that system.

 I got his point. In total absence of a time-frame , a person will not act at all. This is very natural. So even if God descends on Earth and asks to follow Gita , people will not act. In absence of a time mechanism , the teachings of Gita become useless.

 After that, restlessly I started thinking that there must be a way or method , which lets you know the probable periods of Karma Phal delivery and its approximate quantity . Otherwise, Gita cannot appeal the general public and learned persons in particular. And after few years , after I undergone a basic course in Astrology in Delhi , it striked me that only Shastra available for such knowledge of timing is JYOTISH SHASTRA or Hindu Astrology !

 EUREKA I screamed !!! All questions and doubts immediately vanished in thin air after this idea. Astrology exists in India from immemorial times, even before Gita was delivered and it is based on mathematics and astronomy.

 The mathematics is the core and backbone of science and technology , hidden from public eyes but very much visible to the scientists and technologists. The existence of science and technology happened only after development of Mathematics. Gita too has its own mathematics , which when, it was created made a wide spread appeal on Indian society. And based on that mathematics called astrology, it was accepted , worshipped and lasted for 5000 years. Gita's author always assumes that you are aware of basics of astrology.

 Gita talks passionately about the theory of Karma ( human action ) and its Phal (result) and says that while you should , rather you have to do Karma because of environment you are trapped in , but don't expect its Phal and leave it to God. Now , modern man gets stuck up , why one should not ? Then what is the need of action ? etc.

Gita is like an electronics / computer technology theory book , discussing a marvellous and fascinating subject yet it is either abandoned or worshipped but is not practiced in modern daily life . The reason being the absence of its mathematical support of astrology for validating its confident use.

 Once when I was explaining the need of knowing astrology for actual understanding and applicability of Gita , some body raised a question why Gita does not have any reference to astrology .

 I said it was not required at that time and for that you will have to study the history and social conditions of that time as described in Mahabharata .All of us know that Gita was written as a poem ( Gita - Songs ) about a very deep meaning subject, as a literary work, much after the war ended .

 If we study Mahabharata even today , we find many instances of astrological references. The stalwarts of both sides of Kauravas and Pandavas are seen quoting via astrology using Nakshatra & Planets . Using Astrology , they confidently knew even the result of the impending war.

 Particularly, Bhishma and Karna were very well sure about the defeat of their side before start of war despite being the stronger side, because of the knowledge of Nakshatra based astrology. Later, Bhishma postpones his time of death for this reason only. We also know that Sahdev, youngest of the Pandava brothers was a practising astrologer , whom even Duryodhan consulted !

 This only proves that astrology was a very well known and widely practised subject , though in literate and educated society. When Gita talked about Nishkaam Karma, then society was already knowing and practising it via Astrology. And it is next to impossible to do Nishkam Karma ( desireless action ) without understanding astrology.

 It is astrology , which informs you that some situations in life , are beyond the control of human actions and you have to undergo the loss and pain at some particular moments, despite your best intentions and efforts at that moment. Man has not been designed to win always. This , when seen repeatedly, will result in Nishkam Karma automatically, as happened to Bhishma and Karna. Their side did not win but Individually they won their name in history.

 That is the reason , Gita does not include any astrological reference , because its author thought it too elementary to mention it in that Age, even to include it as an appendix .

 It was like, taking for granted that a person sitting in a shop knows basic arithmetic or a professional today in India is supposed to know English, computers etc. It was a very normal assumption that any person studying Gita knows some basics of astrology , so that he does not raise why & when for its theory.

 And once a person is astrologically aware, Gita assumes a larger than life size and becomes an all time great Classic and becomes The Constitution of God . Further, we know that Gita survived all through 5000 years in India except last 200 years, which were also the years of decline in astrological education. These 200 years are nothing but the period of Western Industrial Revolution and its influence in all segments of Indian life.

 Gita deals with inner needs of human beings , talks about soul and mind , happiness and unhappiness , reasons behind these and finally how to detach oneself from them. These are eternal subjects which were and shall remain the subjects close to any human heart in future as well. And so Gita and its mathematics called astrology, the Hindu Astrology ,will never lose their appeal, though it may diminish for some time ,as happening now, because of onslaught of materialistic achievements. ”

With that I ended my speech. It was already 10:30 PM . The audience was sitting in a total freeze all through this. The main organizer ostensibly appreciated my point while concluding the session but visibly he looked disturbed, because an outsider had stolen the limelight of their annual event .

Next morning , the local Dainik Jagran reporter called me on phone and he identified himself as the person from audience, who asked me to explain Gita . He said that he had sent excellent coverage of my point on Gita , but editor at Patna had curtailed it considerably.  

In next episode , read how astrology can help in modern corporate management.  

 

Go Back

Use of Astrology in Management Education -2

The Missing Mathematics of GITA - I

 

 In December of 2007 , when  I was posted as Powergrid project incharge of 220KV Substation construction in a sleepy town of Bihar ( Darbhanga) , my neighbor called on me one morning and suggested to accompany him that evening in a local 3 day Satsang called Gita Gyan Yagya, where apart from the local preachers, one TV channel type preacher from Delhi was also invited. After learning that the discourse is to be centred around GITA , I expressed my dilemma.

 I said that I have already undergone many hours of discourses on  Gita by such monotonous preachers on TV and there is no point in attending another one on a chilled evening under a tent with open surroundings. But , I told him that I can accompany him , not as a part of audience, but if allowed to speak on my understanding of GITA . Then he briefly discussed my point and after getting convinced , he told me that he would talk to organizers for a time slot that evening.

I reached there at 8 PM . And as happens routinely in such get-togethers , while preacher after preacher was delivering his rote learning in a monotonous somnolent speech , about 100 people were sitting struggling cold , some of them yawning, talking on mobile , taking a nap etc.

I was called on the dais at 9 pm with 15 minutes time and was introduced as project manager of Powergrid project at Darbhanga( perhaps that was the reason enough to allow me speaking ! ). Sitting among the professional preachers, who memorised entire Gita by rote while I remembered hardly 3-4 shlokas from Gita ( I had read entire Gita long back), I planned a debate . I humbly told them that neither I am an expert on the academic side of Gita nor I am a professional preacher or an orator. I said that I relate more to the people sitting in the audience than persons on the dais and my speech will have that point of view.

 My candid confession immediately established my rapport with the audience and people started listening me, leaving their other activities. I asked the preachers to answer some questions which I was raising as a representative from audience.

 I started “ Like this 3 day satsang on Gita , in entire India , thousands of conventions are held every year by many Gurus and preachers , which are attended by millions. There are similar discussions and write ups in print and electronic media also. There must be lakhs of speakers on the Gita and thousands of books written on it. And these activities are happening for years and increasing day by day in India. That is, when everybody already knows in India that Gita says do your work with utmost sincerity( Karma Yoga ) and leave the result in the hands of God. And everybody accepts this theory in India at least.

My first question is about this national paradox : A country, where GITA originated and with lakhs of its full time exponents all the time explaining to the public the virtues and benefits of Gita's doctrine, still this country remains the most dishonest , corrupt, unethical , lazy , dirty and shying away from even routine works and responsibilities. Whereas developed countries in Europe , the Scandinavian countries of Sweden,Norway and our South East Asian countries like Singapore etc are living in excellent ways without any trace of Gita and its preachers. ”

 I asked the preachers to find the answer for this paradox ! It simply means that either the audience is not communicating and connecting with preachers or there is some flaw in the doctrine of Gita itself. Further I told that had there been any flaw in the Gita , then it would not have survived for 5000 years and it would not have inspired millions of people in these 50 centuries .

 The audience was now listening in pin-drop silence. I fired another question, citing my own experience in an AC compartment train journey, where I had politely asked a bearded Mahanth of a Mathh , who was quoting Gita all the time, to answer honestly that whenever he faced a crisis, did he remember and apply Gita's solutions. He candidly accepted that he did not !!

 I repeated my question to the preachers on the stage. I said that answer here also, must be in negative !

 I continued that when the exponents of Gita themselves are the disbelievers in Gita , then audience can be pardoned for not connecting with Gita. My engineering institute IET Lucknow has its  moto “ Gyanam Bharah Kriyaam Bina ज्ञानम् भार: क्रियां बिना " meaning knowledge is burden if not applicable . So , prima faci , it was proved that the present practice of Gita preaching is nothing but an exercise in futility as it is out of sync with the present age and it is more of  a religious burden.

 This led us to a deeper question. Is it the same Gita which was delivered in Mahabharata 5000 years ago ? If it is the same , then why it is not effective in this age ? Is it not an all time great classic ? But again, most of us agree that it is the same Gita of 18 chapters and it has mesmerised peoples of all ages in the past. Then what is lacking in Gita at present ? What makes it lack lustre now ?

 The organisers had allotted me 15 minutes and the entire program was to be wound up by 10 PM . I had already taken up 30 minutes but organizers were helpless as the audience was listening in rapt attention. Here , an engineer was asking fundamental questions on Gita's very existence to the religious preachers, to which they had no answers !

 Then somebody from audience shouted “ We also understand that they don't have any answers  but  since you have discovered these questions ,  you must be having that missing link in Gita so please  tell us also. ”  I said    “ Yes ! I know that link but will you listen for another 45 minutes , because I will not be here again ?” And the audience roared in unison “ Yes , as long you speak , we are ready to listen .”

Organizers were now in a trap. They had casually allowed a dark horse speaker , who had now hijacked the show and they were unable to do anything as the audience was clearly enthralled .

 

In next part read the connection between Gita & Astrology....

Go Back

Use of Astrology in Management Education -1

 

 

                           ( Using Religion to Prevent Spitting/ Urinating on Walls in Public Places)

 Last week , we had the unprecedented natural disaster at Kedarnath shrine and at other places in Uttarakhand. Once more , the mismanagement and lack of coordination among governmental agencies became obvious. This is when our govt. officials are regularly trained in best management institutes of India and abroad.      

    During  my 24 years's working in Govt. Power sector after  my engineering graduation in 1988, I also got opportunity of attending Residential Management Development Programs at  Premier Institutions like MDI, Gurgaon and IMI, New Delhi.

    But on every occasion, I  found that there was  gross disconnect between the management education preached in the airconditioned controlled environment and the real war like situation at working sites , where all this education is supposed to be practiced. It was more for fulfilling a HRD norm of giving a certain days of training to officers rather than bringing any transformational change in their working.

     During my training also , I  raised this issue that something is missing in management education but nobody had any alternative method.

The word management includes MAN . Unless the management theories take care of this MAN in his all manifestations , these theories cannot solve our unique problems.

Let me explain through an example. An average Indian citizen is least bothered about the cleanliness and sanitation in public places. All management theories imported from West failed here to ensure it. But , everybody knows that there is also an exception to this. The temples,mosques and churches are cleaner in India than any other public place. Because India has a legacy of being a God-fearing country.

So, when ceramic tiles with images of god and goddesses are placed in public place stairs , people would not urinate or spit Paan-Peek पान पीक ( somebody told me that it still happens if light is not there) . Further, we Indians cannot organise for any important issue easily, but millions will gather for three month long Kumbh Mela without any cost implications, just for the sake of God.

Therefore, the MAN in Management is to be understood in its three dimensions of Desh, Kaal and Paatra ( देश , काल और पात्र ) translated as place,period and person. An Indian citizen responds to religious significations more than atheist western management theories.

Since the world class IIMs and IITs treat these issues as taboos in their curriculum, these institutions have not been able to make noticeable difference in Indian society's functioning and its productivity level.


It is unfortunate that while practicing western secularism , we abandoned the positive attributes arising out of God-fearing mentality. We abandoned the religion , which resulted in elimination of God-fear ( the supreme of all positive fears ) and that has caused an overall chaos and crisis in every field of public and private life in India.

So, it is my firm belief that in Indian context, unless god-fear ( irrespective of which religion you belong ) is instilled in our teachings from nursery to Ph.D. level again , every type of education is to resemble like a beautiful mummified deadbody without soul and hence ineffective in making any dent in Indian scenario of hopelessness.

I will write an interesting personal experience to prove my point in my next post.

Go Back

Astrological Review of Bihar Politics

बिहार की चुनावी राजनीति का ज्योतिषीय विवेचन 

 

सन 2004 से 2012 तक मेरी पोस्टिंग पावरग्रिड में बिहार राज्य में ही थी .मुझे इस दौरान बिहार राज्य और इसके निवासियों को नज़दीक से जानने का मौक़ा मिला . मेरे प्रवास में पहला साल लालू राज , दूसरा साल कांग्रेस का राज्यपाल(बूटासिंह) शासन और उसके बाद से नीतीश कुमार का शासन था .

बिहार में सरकारी कार्यों की गति विभिन्न कारणों से धीमी रहने के कारण मुझे ज्योतिष के बहुत सारे प्रयोग करने का समय मिल सका .वैसे तो मुझे दरभंगा में लोग पावरग्रिड प्रोजेक्ट इंचार्ज के रूप में ही जानते थे लेकिन कुछ लोग ज्योतिष में रूचि रखने के लिए भी मुझे जानते थे.ऐसे मित्रों की फरमाइश पर पहले मैंने बिहार के बारे में ज्योतिषीय भविष्यवाणी करने के लिए एक उचित गणितीय आधार की खोज आरम्भ की .और उसके बाद जब मैंने लालू जी की सरकार जाने की भविष्यवाणी की तो उन दिनों बिहार वासियों को यह यकीन करना मुश्किल था कि लालू जी की सत्ता 15 साल बाद वाकई उखड़ने वाली है.

चुनाव की भविष्यवाणियों के लिए ज्योतिषी ज्यादातर प्रमुख नेताओं की जन्मकुंडलियों को आधार बना कर चलते हैं और ऐसी भविष्यवाणियाँ अक्सर गलत होती हैं क्योंकि असली जन्मतिथि नेता कभी जाहिर नहीं होने देते हैं और अगर पता लग भी जाए तो उस पर बाद में भ्रम फैला कर दो तीन जन्मतिथि प्रचारित कर दी जाती हैं . यही समस्या दलों की कुंडली बनाने में भी अक्सर आती है. अत: इनके आधार पर सही भविष्यवाणी करना बेकार था और मैं एक स्पष्ट आधार की खोज में था .

अंत में मैंने गोचर आधारित भविष्यवाणी पर ध्यान केन्द्रित किया जिसमें राशि को आधार मानकर भविष्यवाणी की जाती है. अब मेरा पहला लक्ष्य लक्षणों के आधार पर बिहार राज्य के लिए एक प्रभाव राशि, बारह राशियों में से चुनना था .

बिहार की प्रमुख भौगोलिक व राजनैतिक विशेषताएं मेरे अनुसार इस प्रकार हैं :

1. अनेक नदियों का हिमालय नेपाल से आके गंगा में मिलना , बिहार को जल प्रचुर व बाढ़ ग्रस्त राज्य बनाता है.
2. आबादी का अधिक घनत्व व अधिक जन्मदर
3. बिहार के निवासी ऊपर से शांत व अन्दर से उद्वेलित रहते हैं .
4. अपने राज्य में भौगोलिक व राजनैतिक कारणों से पिछडापन भोगने को अभिशप्त बिहार निवासियों में असीम ऊर्जा छुपी रहती है जो बिहार से बाहर जाने पर मुखर हो जाती है और इनकी विशेष प्रगति का कारण बनती है. यह भूमि में छिपे पेट्रोलियम या कोयले से मिलता उदाहरण है जो बाहर जाने पर महँगा बिकता है.
5. यह विशेष प्रतिभा बिहार में अधिक अपराध दर व माफिया के फैलाव में भी दिखता है .

उपर्युक्त आधार पर 12 राशियों में से एक राशि का चुनाव मुझे करना था . 12 राशियों में से 3 राशियाँ कर्क, वृश्चिक व मीन ही जलीय राशियाँ हैं जिनमें से मीन को समुद्री राशि माना जाता है . बिहार समुद्र के पास न होने से मेरा चुनाव सिर्फ कर्क व वृश्चिक के बीच रह गया .

कर्क राशि को चौथे भाव सुख, सम्पन्नता की राशि व इसके स्वामी चंद्रमा को शान्ति व सुख का कारक माना जाता है.

इसके विपरीत वृश्चिक राशि आठवीं राशि है जो की भूमिगत ऊर्जा संपन्न ( रहस्यमय) , शोभारहित व गोपनीय मानी जाती है. इस राशि में सुख का ग्रह चन्द्रमा नीच का माना जाता है. इसका स्वामी ग्रह मंगल ऊर्जा , क्रोध , अपराध व सुरक्षा , बल पूर्वक कार्य कराने वाला ग्रह माना जाता है.

अत: निर्विवाद रूप से वृश्चिक राशि को बिहार राज्य की प्रभाव राशि मान सकते हैं . एक बार राशि निर्धारण हो जाने पर इस राशि से गुरु व शनि ग्रहों की स्थिति के अनुसार राज्य व इसकी सत्ता परिवर्तन की भविष्यवाणी भी की जा सकती है.

यहाँ एक रोचक बात मैंने पायी कि चीन की राशि भी वृश्चिक है क्योंकि ऊपर लिखे कई कारण जैसे रहस्यमयता , बाढ़ , भूकंप , बीमारियाँ , गरीबी, बड़ी आबादी, बेरोजगारी व बलपूर्वक शासन (कम्युनिस्ट) चीन के साथ भी लागू होते है. चीन व बिहार में काफी समानताएँ आप भी खोज सकते हैं .

गोचर के आधार पर भविष्यवाणी :

शनि ग्रह सूर्य के चारो ओर 30 साल में एक चक्कर लगाता है और 12 राशियों का भ्रमण पूरा करता है . इस प्रकार यह एक राशि में करीब ढाई साल रहता है . इसके प्रवेश से ठीक पहले अनेकों परिवर्तनों की शुरुआत हो जाती है जो कम से कम ढाई साल या उससे अधिक समय तक प्रभावी रहते हैं .

किसी भी राशि से शनि चौथे व आठवें स्थान पर होने से ढैया यानी ढाई साल उस राशी के लिए उथलपुथल भरे होते हैं .

इसके अलावा राशि से एक पहली राशि से आरम्भ कर राशि से आगे वाली राशि तक शनि का ( पूर्व,मध्य व पश्चात) 3 राशियों का लगातार शनि भ्रमण जन सामान्य में साढ़े साती के नाम से प्रचलित है क्योंकि इसमें साढ़े सात साल लगते हैं . साढ़े साती का समय किसी भी राशि के लिए आमूल चूल परिवर्तन कारक होता है और इस समय से पहले और बाद के समय में ज़मीन आसमान का अंतर होता है.

 

वृश्चिक राशि की ढैय्या व साढ़े साती

उपर्युक्त नियम के आधार पर शनि का कुंभ व मिथुन राशि में भ्रमण ढैय्या और तुला , वृश्चिक व धनु में भ्रमण साढ़े साती का समय वृश्चिक राशि के लिए होगा जो बिहार के लिए भी लागू होगा .

शनि ग्रह की सन 2000 से विभिन्न राशियों में प्रवेश की तिथि इस प्रकार है :

1 . वृष में प्रवेश जून 2000 से

2. मिथुन में प्रवेश अप्रैल 2003 से

3 कर्क में प्रवेश सितम्बर 2004

4. सिंह में प्रवेश नवम्बर 2006

5 कन्या में प्रवेश सितम्बर 2009

6. तुला में प्रवेश नवंबर 2011

7. वृश्चिक में प्रवेश नवम्बर 2014 से

8. धनु में प्रवेश जनवरी 2017 से

9. मकर में प्रवेश जनवरी 2020 से

आप देख सकते हैं कि बिहार की ढैय्या शनि के मिथुन राशि प्रवेश के साथ सन अप्रैल 2003 से सितम्बर 2004 और पुन: 13 जनवरी 2005 से 26 मई 2005 तक थी . यह समय अष्टम शनि का होने से, जिसमें शनि की तीसरी दृष्टि दशम स्थान पर होती है , बिहार के चुनाव में शासक बदलने की गारंटी थी .

बिहार में लालू प्रसाद यादव की सत्ता शनि की मिथुन राशि की ढैय्या के दौरान गयी थी जब शनि वक्री गति से पुन: मिथुन राशि में 13 जनवरी 2005 से 26 मई 2005 तक था . बिहार विधान सभा के चुनाव फरवरी 2005 में कराए गए थे जिसमें लालू को बहुमत नहीं मिला और न ही किसी ने उनका समर्थन किया और लालू को सत्ता छोडनी पड़ी .

मेरी लालू के हटने की सफल भविष्यवाणी का मुख्य आधार सन 2005 के चुनाव के समय शनि का मिथुन राशि में होना था, जो की आठवाँ गोचर होने से सत्ता परिवर्तन की गारंटी देता है.

इसके बाद शनि का गोचर 9 , 10 व 11वें शुभ स्थानों में होने से सत्तारूढ़ दल को निष्कंटक राज्य व अभूतपूर्व बहुमत भी मिला.

लेकिन 15 नवम्बर 2011 से बिहार , शनि के तुला राशि में प्रवेश के साथ ही साढ़े साती के प्रभाव में आ चुका है। साढ़े साती के पहले चरण में जो नवम्बर 2014 तक है , इसमें परिवार में कलह ( सत्तारूढ़ दलों की आपस में कलह ) , जनता व सरकार के बीच झडपें व लोकप्रियता में कमी का फल मिलेगा, लोकसभा चुनाव के बाद इसमें और तेजी आयेगी .

साढ़े साती के दूसरे चरण , जो शनि के वृश्चिक प्रवेश नवम्बर 2014 से जनवरी 2017 तक होगा , इसमें शनि की दशम दृष्टि दशम राज्य स्थान पर पुन: होने से अष्टम शनि ही की तरह यानी फरवरी 2005 की तरह बिहार में पुन: सत्ता परिवर्तन का योग बन रहा है . बिहार विधान सभा के चुनाव सन 2015 के अंत में होने हैं .

बिहार सन 2011 -2019 के बीच साढ़े साती के प्रभाव में है अत: इस अवधि में बिहार में आमूल चूल परिवर्तन दिखने की संभावना है . आप भी इन संभावनाओं के बारे में अनुमान लगा सकते हैं , इसके लिए मैं आपको एक प्रमाण देता हूँ .

शनि 30 साल बाद सूर्य का एक चक्कर पूरा करता है इसलिए 30 बरस बाद पुन: पिछला इतिहास नई पीढ़ी के साथ दुहराया जाता है. बिहार की पिछली साढ़े साती 30 बरस पहले अक्टूबर 1982 से दिसंबर 1990 तक थी , जिसमें कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टी की सत्ता जो बिहार से गयी तो वह अभी तक दुबारा किसी भी राष्ट्रीय पार्टी को नहीं मिली है.

साढ़े साती में शनि उलटफेर के लिए जाना जाता है , इसलिए आप भी समझ सकते हैं कि क्षेत्रीय राजनीति से वापस राष्ट्रीय पार्टी  के हाथ में बिहार की सत्ता पहुँचने की अवधि  इसी साढ़े साती में है.

लगे हाथों आपको एक अंतर्राष्ट्रीय उदाहरण दे कर अपनी बात को मैं विराम देता हूँ .

मैंने ऊपर लिखा है कि चीन की भी वृश्चिक राशि है . अत: साढ़े साती के वही प्रभाव चीन पर भी लागू होंगे . चीन अक्टूबर 1982 से दिसंबर 1990 तक एक बड़ी उथलपुथल से गुजरा जिसमें 1989 का तियान्मैन चौक नरसंहार  भी शामिल था और जिसे बड़ी सख्ती से कुचल तो दिया गया लेकिन उसी के कारण चीन में  आर्थिक उदारी व वैश्वीकरण की शुरुआत मानी जाती है. इन परिवर्तनों को स्वीकार करने के कारण ही अगले तीस साल में चीन विश्व की आर्थिक महाशक्ति बन सका .

सन 2011 -2019 के बीच चीन पुन: साढ़े साती की गिरफ्त में है, पर इस बार वह महत्वाकांक्षा की वजह से पतन की ओर है और इसके लक्षण अभी से दिखने लगे हैं : पड़ोसी देशों भारत , जापान , वियतनाम और अमेरिका आदि से कलह की शुरुआत हो चुकी है और 2020 के बाद की चीन की स्थिति में अब से ज़मीन आसमान का अंतर आपको मिलेगा क्योंकि उत्थान के बाद पतन ही होता है .

Go Back

Ram Vanvaas Live Broadcast on Indian TV

त्रेता युग से राम वनवास का टीवी पर लाइव  प्रसारण 

 जब आप बरसों से देश से गरीबी हटने की कल्पना को सच माने बैठे हैं तो मुझ शेखचिल्ली के साथ यह कल्पना भी कर डालिए कि जैसे द्वापर में संजय ने धृतराष्ट्र को महाभारत का आँखों देखा हाल सुनाया था वैसे ही त्रेता में भी दूरदर्शन था । सबूत के तौर पर राम वनवास के कुछ दृश्य आप को दिखाता हूं :

 दृश्य 1

  कल राम का राजतिलक है। सभी चैनल, सरकारी चैनल का प्रसारण रिले कर रहे है। कर नहीं रहे हैं, उन्हें करना पड़ रहा है। सीधे प्रसारण का अधिकार और किसी के पास नहीं है। सुबह से शहनाई बज रही है, राम के बचपन से आज तक की बार-बार फुटेज दिखाई जा चुकी है। कार्यक्रमों में कोई सनसनी नहीं है, व्यूअरशिप कम है, इसलिए विज्ञापन भी नहीं है। अचानक रात बारह बजे सभी चैनल जाग जाते हैं। हर चैनल पर एक ही ब्रेकिंग न्यूज है - राम को चौदह बरस का वनवास। सारी अयोध्या सोते से जाग गई है। पान और चाय की दुकानें खुल गई हैं। ढाबे सज गए है। सुनसान गलियाँ ऐसे ही जीवंत हो गई हैं जैसे प्रभु से वरदान पाया कोई भक्त।

 कुछ चैनल सनसनीखेज खुलासा कर, सनसनी वैसे ही फैला रहे हैं जैसे असुर अपनी संसकृति फैलाते है। देखिए सनसनीखेज खुलासा, कैसे एक सौतेली माँ ने किया अत्याचार। जो बेटा उसे अपनी माँ से बढ़कर मानता था उसी माँ ने दिया उसे चौदह बरस का वनवास। आप जाइएगा नहीं, देखते रहिएगा। अयोध्या के इतिहास में ऐसा न कभी घटा और न कभी घटेगा। अपने पुत्र भरत के लिए ऐशो-आराम और वे राम जो कल राजा बनने जा रहे थे, उनके लिए चौदह बरस का वनवास। हम आपको दिखाने जा रहे हैं सनसनीखेज खुलासा कि कैसे हुआ राम को यह वनवास। जाइएगा नहीं, ब्रेक के बाद हम आपको दिखाएँगे कैकेयी की वो चाल जिसने पलट कर रख दी दशरथ की बाजी।'

 इसके बाद ब्रेक इतना लंबा होता है कि सनसनी का ब्ल्ड प्रेशर लो होने लगता है। इस ब्रेक में राम छाप दूध् से लेकर कैकेयी छाप सुरा तक के विज्ञापन अपना कमाल दिखाते हैं।

  दृश्य 2

  कुछ चैनल्स ने विशेषज्ञों को बुला लिया है। विशेषज्ञों का मुकाबला चल रहा है जो किसी डब्ल्यूडब्ल्यू एफ के दंगल से कम नही है। ऐसे मुकाबले आनंद देते हैं, इसलिए आप भी इस मुकाबले का आनंद लें।

 एक - हमारा दल मानता है कि ऐसा अयोध्या के इतिहास में पहले कभी घटा नहीं है।

 विशेषज्ञ दो - हमारा दल मानता है कि ऐसा अयोध्या में घटा है पर उसके प्रमाण नहीं मिलते हैं।

 विशेषज्ञ तीन - कब घटा है? आपके पास क्या प्रमाण हैं?

विशेषज्ञ दो - जब भी घटा है, घटा है। प्रमाण समय आने पर देंगे।

विशेषज्ञ एक - मैं कहता हूँ नहीं घटा है...

 विशेषज्ञ दो - मैं कहता हूँ घटा है।

 और इसके बाद खूब मैं मैं चलती है तो संचालक तीसरे की ओर रुख कर के कहता है - आपका दल इस बारे में क्या कहता है?

 - हमारा दल इंतजार करेगा कि कौन सत्ता में आता है, राम या भरत, जिसे हमारे दल की आवश्यकता होगी। अपनी आत्मा की आवाज हम तब ही सुनेंगे और उचित समय पर उचित फैसला लेंगे।

  दृश्य 3

  इस बीच एक और ब्रेकिंग न्यूज आती है - अभी-अभी हमें समाचार मिला है कि सीता के लिए वनवास के वस्त्र रात को एक दुकान खुलवा कर लिए गए हैं। हमारे संवाददाता इस समय दुकान के बाहर मौजूद हैं, चलिए हम उस दुकानदार से बात करते हैं जिसके यहाँ से यह वस्त्र लिए गए हैं।

 - आपका नाम?

 - मेरा नाम हरीशचंदर है जी

 - आप क्या करते हैं

 - जी, मैं रिषी-मुनियों को कपड़े बेचता हूँ।

 - आपकी दुकान पर केवल रिषी-मुनि ही कपड़े लेने आते हैं?

 - हाँ जी।

 - और कोई नहीं आता?

 - न जी।

 - और कोई क्यों नहीं आता?

 - पता नहीं जी।

 - आप झूठ बोल रहे हैं, आपको सब पता है।

 - पता नहीं जी।

 - आपको पता है, आपके यहाँ से ही कपड़े गए हैं किसी महिला के लिए । हमारे पास इसकी वीडियो है, हमें सब पता है,

 - जब आपको सब पता है तो मुझसे क्यों पूछ रहे हो?

 तो आपने देखा महलों का आतंक। हम अभी कुछ देर में आपको वह वीडियो दिखाने जा रहे हैं जो खुलासा कर देगी कि वो कपड़े सीता के लिए ही गए हैं। हमारी टीम उस डिजाइनर की खोज कर रही हैं और उस प्रसाधन केंद्र का भी पता कर रही है जहाँ सीता जी वनवास के लिए सजने गई थीं।

आप हमें एसएमएस करें कि क्या राम अकेले वनवास जाएँगे ? यदि आपका जवाब हाँ है तो हाँ लिखें, न है तो न लिखें और कुछ भी जवाब न हो तो भी आप लिखें 'कुछ नहीं' । हमारे चैनल ने पहली बार ऐसे लोगों को भी मौका दिया है जिनका जवाब 'कुछ नहीं' हो सकता है।

 दृश्य 4

  एक धर्मिक चैनल ने गुरु वसिष्ठ के विशिष्ट चेले, उनके विशिष्ट विरोधी तथा कुछ पंडितों का पैनल बनाया हुआ है। पोथियाँ खुली हुई हैं, ग्रहों की स्थिति बाँची जा रही है, गणनाएँ जारी हैं तथा अनिश्चित वातावरण में कुछ भी निश्चित कहने से बचा जा रहा है। अलग-अलग चेहरे अलग-अलग अंदाज में दिख रहे हैं। कुछ इस अंदाज में दिखाई दे रहे हैं कि अरे, ये क्या हो गया, कुछ इस अंदाज में हैं कि हमने तो पहले ही कहा था और ये तो होना ही था तथा कुछ इस अंदाज में हैं कि देखें भाग्य में और क्या-क्या होना है। सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न ये है कि गुरु वसिष्ठ ने मुहूर्त निकालते समय ग्रहों की गणना कैसे गलत कर दी। कुछ गुरु की मीन-मेख निकाल रहे हैं, कुछ करम गति टारे नहीं टरे के सिद्धांत की व्याख्या कर रहे हैं और कुछ कोई नृप होय हमें का हानी से निस्पृह हैं और कुछ जुगाड़ यंत्र को साध आगामी शासन में अपनी घुसपैठ बनाने के वचन बोल रहे हैं।

 क्या चल रहा है, इसे देखने को अभिशप्त जनता आप भी देखें।

 प्रश्नकर्ता - सुना है राम का राजतिलक रुक गया है और वे वनवास जा रहे हैं।

ज्योतिषचार्य - ये सब ग्रहों का खेल है, समय बहुत बलवान है।

 - कौन-से ग्रह क्या खेल खेल रहे हैं?

- राम और दशरथ के ग्रह टकरा गए हैं। राहु-केतु प्रबल हो गए हैं। समय शुभ नहीं है।

 - पर कल तो आपने राजतिलक के लिए समय को शुभ बताया था, अति शुभ बताया था।

- ग्रहों की चाल बदलती रहती है। समय बहुत बलवान होता है। करम गति टारे नहीं टरती है।

 - अब भविष्य में क्या होगा?

 - समय शुभ नहीं है।

 - यदि कैकेयी ने अपने वचन वापस ले लिए या फिर दशरथ वचन से मुकर गए?

- भविष्य के गर्भ में बहुत कुछ छिपा रहता है। समय शुभ हो सकता है। माता कौशल्या यज्ञ करवा रही हैं, मंत्रोच्चार हो रहे हैं। तांत्रिक व्यस्त हैं। समय बदल सकता है।

 - नहीं भी बदल सकता है क्या?

 - नहीं भी बदल सकता है। पता नहीं कैकेयी क्या करवा रही हैं।

 धर्मिक चैनल की इस चर्चा में सभी गुणी और ज्ञानी जन अपने-अपने धर्म की व्याख्या कर रहे हैं। ऐसे महत्वपूर्ण क्षण में प्रजा के प्रति धर्म की चिंता कहाँ? प्रजा तो वैसे ही सन्नाटे में है।

 दृश्य 5

  कुछ कैमरामैन कैकेयी के कोपभवन के बाहर तक पहुँच गए हैं। बाहर सुरक्षाकर्मी खड़े हैं। दशरथ तक पहुँचना नामुमकिन है। चलिए हम सरकारी प्रवक्ता सुमंत जी से पूछते हैं - सुमंत जी, आप तो राजा दशरथ के करीबी हैं, आप बताएँ इस समय राजा दशरथ को क्या लग रहा है?

 सुमंत सोच की मुद्रा बनाते हुए और आवाज को गंभीर करते हुए - यह बहुत असमंजस का काल है... सभी असंमजस में हैं... असमंजस के इस काल में, मेरे विचार से इस समय महाराज को यह लग रहा है कि वे दशरथ क्यों हैं।

 -और उनके पास बैठी रानी कैकेयी को क्या लग रहा है?

- वे भी असंमजस में हैं और रानी कैकेयी को लग रहा है, कि वे कैकेयी क्यों हैं?

- और आपको सुमंत जी?

 - मुझे, मैं तो बहुत असंमजस में हूँ... मैं राजा दशरथ और रानी कैकेयी का नजदीकी हूँ, इसलिए मुझे भी लगना ही चाहिए कि मैं सुमंत क्यों हूँ?

देखा आपने यह सनसनीखेज खुलासा, सुमंत तक को पता नहीं है कि वे सुमंत क्यों हैं। राम वनवास की अचानक खबर ने अनिश्चितता का माहौल पैदा कर दिया है। सभी असंमजस में हैं। कहीं आपातकाल...

 इस बीच कुछ कैमरे राजा जनक के महल तक भी पहुँच गए हैं। महल के द्वार बंद हैं। कोई प्रवक्ता तक नहीं है कुछ कहने के लिए। चारों ओर असंमंजस ही असंमजस है।

 कुछ चैनल भरत की पहली बाइट लेने के लिए उन्हें ढूँढ़ रहे हैं, पर भरत पर तो सुरक्षा घेरा कस चुका है। उनका कुछ भी कहना अयोध्या में...

  

मित्रो, ऐसे ही दृश्य संख्या 6, 7, 8 आदि आदि अनादि हैं - हरि अनंत हरि कथा अनंता की तरह। मैं उनका वर्णन अभी नहीं कर रहा हूँ क्योंकि मुझे पूरा विश्वास है कि उन्हें देखने और सुनने के बाद आप भी असमंजस में पड़ जाएँगे और पगला कर कहेंगे - मुझे लग रहा है कि मैं, मैं क्यों हूँ। बोल वनवासी राम की जय!

 

(By Prem Janmejay at Hindisamay) 

 

Go Back

6 Blog Posts