Menu

Use Behavioural Astrology

Happy Diwali

October 21, 2017

जहाँ रौशनी दे न दिखाई,
उस पर भी सोचो पल दो पल.
वहाँ किसी की आँखों में भी,
है आशाओं का शीतल जल.
जो जीवन पथ में भटके हैं
,
उनको नई राह दिखलाओ.
पहले स्नेह लुटाओ सब पर,

फिर खुशियों के दीप जलाओ

Go Back

Comment